Posts

Showing posts from February, 2020

GST बिल लेने वालों की खुलेगी लॉटरी, 10 लाख से एक करोड़ रुपये तक के मिलेंगे इनाम

ग्राहकों को सामान खरीदने पर बिल लेने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए सरकार एक लॉटरी योजना लाने जा रही है. जीएसटी लॉटरी योजना के तहत 10 लाख रुपये से एक करोड़ रुपये तक का इनाम देने की पेशकश की जाएगी.

नई दिल्ली: ग्राहकों को सामान खरीदने पर बिल लेने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए सरकार एक लॉटरी योजना लाने जा रही है. जीएसटी लॉटरी योजना के तहत 10 लाख रुपये से एक करोड़ रुपये तक का इनाम देने की पेशकश की जाएगी. ग्राहक, खरीदारी जो बिल लेंगे, उसी के जरिये वे लॉटरी जीत सकेंगे. केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर एवं सीमा शुल्क बोर्ड (सीबीआईसी) के सदस्य जॉन जोसफ ने कहा जीएसटी के प्रत्येक बिल पर ग्राहक को लॉटरी जीतने का मौका मिलेगा. इससे ग्राहक कर चुकाने को प्रोत्साहित होंगे.

बकाये टैक्स वसूलने के लिए जीएसटी अधिकारी गए बकायादारों के द्वार

Image
पूर्व के सभी प्रकार के बकाया टैक्स की वसूली को लेकर जीएसटी के अधिकारी बकायादारों के द्वार तक पहुंचे। सरकार की वन टाइम सेटलमेंट योजना यानी ओटीएस का लाभ उठाने के लिए जागरूक किया। जिले में सुल्तानिया विवाह भवन, मेन मार्केट, जीएस मोटर और बलिया बाजार चार जगहों पर शिविर लगाकर बकायादारों से ओटीएस से मिलने वाले लाभ के प्रति जानकारी दी। इच्छुक बकायादारों से आवेदन भी करवाया। इस योजना का काफी साकारात्मक प्रभाव भी देखने को मिला। कुल 190 बकायादारों ने ओटीएस का लाभ लेने के लिए आवेदन किया। शहर के मारवाड़ी मोहल्ला स्थित सुल्तानिया भवन और मेन रोड में भी एक शिविर लगाया गया। जीएसटी राज्य कर संयुक्त आयुक्त रिपुंजय झा, उपायुक्त शशिभानु और सहायक आयुक्त प्रीति कुमारी मौजूद रहीं। वही सहायक आयुक्त आबिद सुबहानी और रमेश दास बलिया में और जीएस मोटर में संयुक्त आयुक्त पंकज कुमार, सहायक आयुक्त तेजकांत जहां शिविर का आयोजन किया। संयुक्त आयुक्त रिपुंजय झा ने बताया कि जिले में लगभग 800 से ज्यादा वैट, प्रवेश कर, होटल, लक्जरी टैक्स आदि पुराने टैक्सों सहित अन्य टैक्सों के बकायादार हैं। इनके पास विभाग का लगभग 17 करोड़ रुपया…

Newly appointed CBIC chairman

Image
Ajit Kumar, the new Chairman of Central Board of Indirect Taxes and Customs, has Chennai connect as he was the Principal Chief Commissioner of GST Zone for Tamil Nadu and Puducherry and Principal Chief Commissioner of Customs zones in Chennai before his posting. In his 36-year profession, Ajit Kumar, a 1984 group IRS official and a graduated class of Rashtriya Military School, has worked in numerous limits in the division including the Directorate of Vigilance at New Delhi, Directorate of Revenue Intelligence at Mumbai, a discharge expressed.

Child of a military official, he hails from Calicut, Kerala and joined the Customs division in the year 1984. He was granted the Meritorious Service Certificate for his work in the year 1991 by the CBEC. He has worked in numerous Customs and Central Excise arrangements and furthermore in Directorate of Revenue Intelligence, Directorate of Vigilance, Narcotics Control Bureau, Directorate of Systems.

He was regarded with the Presidential Award for…

बजट 2020-21 हिंदी मे

Image