GST Latest News - Get the latest GST news, updates, Gst Latest , information, . Stay updated with current notifications Gst Latest News In Hindi


GST Latest News - Get the latest GST news, updates, Gst Latest , information, . Stay updated with current notifications Gst Latest News In Hindi


A Complete Guide on GST Refund Process, Rules & Claims

GST News - Get latest GST news, updates, announcements, information, and stories in India. Stay updated with all the current notifications

 

Tips for Scanning Documents and Reducing File Size for uploading supporting documents with the GST refund application

चलिए आज हम इस ब्लॉग में बात करते GST REFUND  की अप्लीकेशन डालते समय हमे डाक्यूमेंट्स को कैसे अपलोड करना क्या डॉक्यूमेंट देना होते हे और डाक्यूमेंट्स का साइज कितना होना चाहिए और डाक्यूमेंट्स को कैसे स्कैन करे तो चलिए स्टार्ट हे जब GST पोर्टल  जायेंगे और न्यूज़ और अपडेट वाले टैब जायेंगे यहाँ सभी वह  आपको मिल जाएगी लेकिन वह इंग्लिश दिया गया हे और ज्यादा डिटेल्स में नही इस ब्लॉग मे हम उसी अपडेट समझेंगे तो चलिए स्टार्ट करते हे 


कोई टैक्सपेयर जब जीएसटी रिफंड के लिए अप्लीय करेंगे तो उन्हें कुछ सपोर्टिंग डॉक्युमनेट अपलोड करेने होते GST RFD फॉर्म के साथ जीएसटी कॉमन पोर्टल पे चार डाक्यूमेंट्स अपलोड  करने होते हे और सभी डाक्यूमेंट्स का साइज 5 MB  तक का होना चाहिए ध्यान रखिये यदि आपकी फाइल का साइज 5 MB  से अधिक होगा तो पोर्टल उसे एक्सेप्ट नहीं करेगा और 4 फाइल अधिक फाइल न बनाये क्योंकि पोर्टल केवल चार फाइल ही एक्सेप्ट करेगा और चारो फाइल का साइज 20 MB तक ही हो प्रतेयक  फाइल 5 MB की।  

RFD किया हे ? ( what is Rdf ) 

अब बात कर लेते हे RFD फॉर्म के बारे में RFD फॉर्म किया हे और इसे कैसे त्यार किया जाता हे अगर आप टैक्स कंसल्टेंट हे तो आपको पता ही लेकिन यदि आप टैक्सपेयर हे तो आपको सबसे सबसे पहले RFD फॉर्म किया हे इसे समझना होगा तो चाइये स्टार्ट करते हे।  

जीएसटी कानून के तहत रिफंड लागू करने के लिए निर्धारित प्रक्रिया अलग-अलग परिदृश्यों के तहत अलग है।

 हम इस बात पर ध्यान केंद्रित करेंगे कि टैक्स  और ब्याज की पेमेंट्स रिफंड  के लिए आवेदन कैसे करें या इलेक्ट्रॉनिक क्रेडिट बहीखाता में संचित इनपुट टैक्स क्रेडिट में जहां आउटपुट टैक्स Liability शून्य है या अधिक नकद भुगतान के कारण इलेक्ट्रॉनिक नकद खाता बही में शेष है। RFD-01 (ऑनलाइन) या RFD-01A (मैन्युअल रूप से) दाखिल करना होता हे ।
तो आपको ये तो समझा गए होंगे की RFD फॉर्म दो प्रकार के होते ऑनलाइन और ऑफलाइन। 
जब हम ऑनलाइन रिफंड का प्रोसेस करते हे तो हमे RFD-01 फॉर्म भरना होता हे और ऑफलाइन के लिए RFD -01A  त्यार करना होता।  

GST रिफंड के लिए आवेदन करने के लिए RFD-01 और RFD-01A का प्रोसेस किया हे  क्या हैं? ( what difgrent in form RDF01 & RFD 01A )

कोई भी बिज़नेस मन या हमे उसे टैक्सपेयर अपना GST रिफंड लेने के लिए RFD01 और RFD 01A फॉर्म भरता हे यदि हमे अपना जीएसटी रिफंड लेना हे तो हम यहाँ फॉर्म भरना होता हे 
आप जीएसटी रिफंड फॉर्म तभी भर सकते जब आपका जीएसटी क्लेम एक हजार से अधिक होगा यदि आपका जीएसटी का क्लेम एक हजार रूपए कम हे तो आप रिफंड के लिए आवेदन नहीं कर सकते
अब बात कब अति की हम कब रिफंड लेने के लिए एलिजिबल होते हे पहला में मेने आपको बतया की 1000 रूपए से अधिक आपका क्लेम होना चाहिए और उसके रिफंड अप्लाई करने की डेट दो साल हे आपकी रेवेंट डेट से इसमें हर केस में आपको देखना पड़ेगा की आपकी रेवेंट डेट किया फिर आप अपनी रेवेंट के बाद दो साल के अंदर आप अप्लाई कर सकते हे।

जीएसटी का रिफंड किन किन केस में मिलता हे और किन केस में नहीं मिलता 

(In which cases GST refund is available and in which cases it is not available)

ऐसा नहीं की आप किसी भी केस में अपना जीएसटी रिफंड लेलेंगे इसके गॉवर्मेँट ने कुछ स्पेसिफिक केस हे जिनमे आपको GST का रिफंड मिलेगा क्योंकि जो टैक्स पेयर हे वो उस टैक्स का बर्डेन वेयर नहीं कर टैक्स का बर्डेन कसूमर में पड़ता हे क्योंकि टैक्सपेयर तो टैक्स कलेक्ट करके टैक्स जमा करवाता हे लेकिन टैक्स देता हे हमारा कस्टमर (क्लाइंट ) इसलिए गोवेर्मेंट आपको उसका रिफंड नहीं देती हे लेकिन कुछ ऐसे स्पेसिफिक केस हे जिसमे आपको जीएसटी का रिफंड मिलता तो चलिए जानते हे वो स्पेसिफिक केसेस किया हे 

GST के अंदर आपको कब कब रिफंड मिल जायेगा वो सभी कवर किये गए हे सेक्शन 54 (8) के सेक्शन 54(8) यहाँ बताता हे की आपको जीएसटी का रिफंड किन किन केसेस में मिलता हे तो सेक्शन ऐसे 6 स्पेसिफिक केसेस हे जिनमे आपको जीएसटी  का रिफंड मिलता हे वो 6 केसेस हे 

  1. REFUND OF TAX PAID ON ZERO RATED SUPPLIES OF GOODS OR SERVICE OR BOTH OF INPUTS SERVICE IN MAKING SUCH  ZERO RATED SUPPLIES 

सबसे इम्पोर्टेन्ट आपको यहाँ धियान रखना हे की आपको  जीरो रेटेड सप्लाई में इनपुट टैक्स क्रेडिट मिलेगा यहाँ पे देखा जो तो डिपार्टमेंट एक्सपोर्ट ऑफ़ गुड्स को कवर किया हे और में अगर किसी स्पेसल इकनोमिक डेवलपर जोन या यूनिट को सप्लाई कर रहे हो जब आप किसी स्पेसल इकनोमिक डेवलपर जोन या यूनिट को सप्लाई कर रहे हो तो वह इसका बेनिफिट सिर्फ आपको मिलेगा क्योंकि सप्लाई यहाँ पे आप कर रहे हो तो यहाँ हमारे लिए यहाँ जानना ज्यादा जरुरी हे की जब हम एक्सपोर्ट की जीरो रेटेड सप्लाई करते हे तो यहाँ पे जो आपको रिफंड मिलेगा INPUT TAX CREDIT का वो इनपुट और इनपुट सर्विस से रिलेटिड ITC हे आपको उसका बेनिफिट मिलेगा इसके अंदर या अपने कोई गलत टैक्स जमा कर दिया था उसका भी रिफंड हम 

     2. REFUND OF UNUTILIZED INPUT TAX CREDIT  SUB-SECTION (3) 


UNUTILIZED INPUT TAX CREDIT किया हे चलिए इसे भी समझते हे 
जहा पे आपके आउटपुट पे टैक्स रेट काम हे इनपुट में टैक्स रेट ज्यादा हे मन लीजिये आपके इनपुट पे 12% टैक्स रेट हे और वही आपके आउटपुट में 5% टैक्स रेट हे  तो इसका रिजल्ट किया होगा आपका मार्जिन भी काम हे 5-10% का आपका मार्जिन हे बस तो ऐसे में आपका ITC कभी भी पूरा का पूरा उस नहीं हो पायेगा और आपके लेजर में आपका ITC अधिक होता ही रहेगा क्योंकि यहाँ आप अपने ITC पूरा उस कर ही नहीं पाएंगे तो इसलिए डिपार्टमेंट ने इस पर्टिकुलर केस में भी आपको ALLOW की किया हे की आप अपना ITC क्लेम ले सकते हो 

    3. REFUND OF TAX PAID ON A SUPPLY WICH IS NOT PROVIDED EITHER WHOLLY PARTIALLY AND FOR WICH  INVOICE  HAS BEEN ISSUED OR WERE REFUND VOUCHER HAS BEEN ISSUED 


जब हम किसी क्लाइंट से एडवांस लेंगे तो हम एक एडवांस रिसीव का वाउचर इशू करेंगे और जीएसटी में  अगर किसी से एडवांस लेते हे तो हमे उसमे भी जीएसटी लगाना होता हे अब हमने क्लाइंट से एडवांस लिए लेकिन कुछ दिनों बाद क्लाइंट से हमारी डील क्लोज हो जाती  हमारा आर्डर कैंसिल जाता हे तो हमे उस क्लाइंट उसका एडवांस भी रिटर्न करना होगा और हम फिर एक वाउचर बनायेगे एडवांस रिटर्न का अब लेकिन अब हमने लेकिन उसे अमाउंट टैक्स टैक्स तो जमा कर दिया था तो इस केस में अपना जीएसटी रिफंड ले पाएंगे।  

    4. THE TAX INTEREST IF ANY OR ANY OTHER AMOUNT PAID BY THE APPLICANT  IF HE HAD  NOT PASSED ON THE INCIDENCE OF SUCH TAX AND INTEREST OT ANY OTHER PERSON 


यानि की जहा पे अपने इन्सिडेन्स ऑफ टैक्स पास ऑन नहीं किया आप ये क्लेम कर रहे हो यहाँ पे आप खुद क्लेम कर रहे हो की मेने इंसिडेंट ऑफ टैक्स पास ऑन नहीं किया बाकि में डिपार्मेंट खुद ही रिज्यूम कर रही हे तो जब आप लोग प्रोसेस देखोगे तो वह आप ये नोट करोगे की यदि आपका दो लाख से काम का रिफंड हे तो आप खुद से रिफंड क्लेम अप्लाई कर सकते हे सेल्फ डेक्लेरेशन लगा के  लेकिन जब आपका रिफंड दो लाख या दो लाख से अधिक होगा तो आपको चार्टेड अकॉउंटेंट से  एक सर्टिफिकेट इशू करना पड़ेगा जिसमे यहाँ कंटेंट लिखा होना चाहिए की अपने अपना इंसीडेंट ऑफ टैक्स पास ऑन नहीं किया बस एक इसी केस में आपको डिक्लेरेशन देना होता हे बाकि केसेस में नहीं और ये सर्टिफिकेट या सेल्फ डिक्लिरेशन आपको RFD 01  के साथ लगाना होता हे। 
ये ये वो केसेस हे जहा आपको आपका GST रिफंड मिलता हे बाकि के केस आपको ITC रिफंड नहीं मिलता 

जैसा की आप सभी पता हे की आपको रिफंड के लिए RDF 01 फाइल करना हे RFD 01 आपको अपनी रेवेंट डेट के बाद फाइल करना होता हे फाइल करने के बाद आपको उसका ACKNOLEGMENT मिलगा अगर डिपार्टमेंट को आपसे कोई क्वेश्चन या डॉक्यूमेंट लेना होगा डिपार्टमेंट ईमेल करके आपको इन्फॉर्म करेगा और आप उसका रिप्लाई देंगे RFD 03  फॉर्म के द्वारा । और फिर आपको फाइनल रिफंड देदिया जायेगा।  यहाँ पे अगर डिपार्टमेंट 60 दिनों में आपका रिफंड नहीं देता हे तो आप डिपार्टमेंट से इंटरेस्ट लेने के हक़दार होंगे।

ऑनलाइन अप्लाई कैसे करे ?( HOW TO APPLY ONLINE IN GST PORTAL ) 

Here is a Step by Step Guide to File RFD – 01 on GST Portal:

Step 1: Login to the GST portal.
Step 2: Go to ‘Services’ > ‘Refunds’ > ‘Application for Refund



अप्लीकेशन फॉर रिफंड पे क्लिक करने के बाद आपके पास एक नया पेज ओपन होगा जो अगला पेज पेन होगा उसमे आपका रिफंड का केस सेलेक्ट करना हे और फिर अप्लीकेशन मे क्रिएट के ICONE पे क्लिक करना हे।  

जब क्रिएट के पे क्लिक करेंगे तो आपके सामने यहाँ एक नया फॉर्म ओपन होगा जिसमे आपके रिफंड का अमाउंट औटोमैटिक भरा हुआ शो होगा डेमो



You can enter the values of the refund to be claimed in the editable ‘Refund Claimed’ table. The refund amount can be less than or equal to the amount available in Electronic Cash Ledger.






To upload the supporting documents, please follow the steps below:
1. Give the description to the document
2. Click on “Choose File” to add the document
3. Click on “SAVE” after completion of uploading the document
Click on “PREVIEW” to download the form in PDF.
After reviewing the draft, click on “PROCEED” to submit the form


Select the checkbox in the declaration. Select the name of the ‘Authorised Signatory’ from the drop-down. Based on the type of your organisation click on “SUBMIT WITH DSC” or SUBMIT WITH EVC.

Once RFD-01 is filed ARN will be generated and Refund ARN Receipt can be downloaded as PDF document from Services> Refunds> My Saved/ Filed Applications.

Comments

Popular posts from this blog

GST E Invoices rules notified by CBIC

1 जनवरी से लागू होगा स्टैंडर्ड ई-इन्वॉइस जानिए किया रहेगा ई-इन्वॉइस का सिस्टम